www.poetrytadka.com

Ab chale aaao

सुलगते सीने से धुँआ सा उठता है !

लो अब चले आओ के दम घुटता है !

जला गये तन को बहारों के साऐ !

मैं क्या करूं हाऐके तुम याद आऐ !!