www.poetrytadka.com

Aawargi ke liye

तेरे दीदार के आस में आते हैं तेरी गलियों में !
वरना सारा शहर पड़ा है आवारगी के लिए !!