www.poetrytadka.com

aankhe bolti rahi

aankhe bolti rahi

जुबां कह नही पाई मगर आंखें बोलती ही रही,

कि जीने के लिए साँसों से ज्यादा मुझे तेरी जरूरत है