www.poetrytadka.com

zism uska bhi mitti ka hai

जिस्म उसका भी मिट्टी का है,मेरी तरह ए खुदा !
फिर भी मेरा दिल ही क्योँ तडपता है उसे पाने के लिए !!