www.poetrytadka.com

zism ke ghaw

जिस्म के घाव तो भर ही जायेंगे एक दिन !
खेरियत उनकी पूछ ए-दोस्त, जिनके दिल पर वार हुआ है !!