www.poetrytadka.com

zindagi tera bhi

जिन्दगी तेरी भी, अजब परिभाषा है !
सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है !!