www.poetrytadka.com

zindagi me

ज़िन्दगी में सारा झगड़ा ही ख़्वाहिशों का है,दोस्तों !
ना तो किसी को ग़म चाहिए और ना ही किसी को कम चाहिए !!