www.poetrytadka.com

zindagi kuch nahi

जिंदगी कुछ नहीं बस एक तलब बनकर रह गयी !
न जाने कब अनगिनत टुकडों में बट कर रह गयी !!