www.poetrytadka.com

zindagi ke tzurbe

तौहीन ना कर शराब को कड़वा कह कर !
जिंदगी के तजुर्बे शराब से भी कड़वे होते है !!