www.poetrytadka.com

zindagi kab aakhri sans le kya pta

जिंदगी कब अपने आप को अंजाम देगी क्या पता !
जिंदगी कब आखरी सांस लेगी क्या पता !
सदा मिलते रहो एक दूसरे से यारों !
जिंदगी से कब आखरी मुलाकात होगी क्या पता !!