www.poetrytadka.com

ziddi prinda

इंसान ख्वाइशों से बंधा हुआ एक जिद्दी परिंदा है !
उम्मीदों से ही घायल है.उम्मीदों पर ही जिंदा है !!