zara si baat pe

shayari sangrah zara si baat pe

ज़रा सी बात पे ना छोड़ना किसी का दामन

उम्रें बीत जाती हैं दिल का रिश्ता बनाने में

मुख्य पेज पर वापस जाए