www.poetrytadka.com

zalan kaisa

मैने ही तो मांगी थी, उसके लिए खुशी की दुआ !
मेरे बगैर अब वो खुश है,तो फिर जलन कैसी !!

हिन्दी शायरी