www.poetrytadka.com

zakhmi dil on poetry

याद हैं मुझे आज भी उसके आखिरी अल्फ़ाज़ !
जी सको तो जी लेना वरना मर जाओ तो बेहतर है !!