www.poetrytadka.com

yhi waqt hai

Last Updated

सियाह रात नहीं लेती नाम ढलने का,

यही तो वक़्त है सूरज तेरे निकलने का