www.poetrytadka.com

ye shoch kar uske har

ये सोचकर उसके हर बात पे यकींन किया था मैंने !
की इतने हसीन होंठ झूठ कैसे बोलेंगे !!