www.poetrytadka.com

ye shayari ki mahfil

ये शायरी की महफ़िल बनी है,आशिकों के लिये !
बेवफाओं की क्या औकात, जो शब्दों को तोल सकें !!