www.poetrytadka.com

Ye Patniyan

संता : अरे यार ये पत्नियां हमें जीने नहीं देती.....
बंता : और व्रत पे व्रत रखकर मरने भी नहीं देती