www.poetrytadka.com

ye kaise silsile hai

ये कैसे सिलसिले हैं तेरे मेरे दरम्यां !
फासले भी बहुत है, चाहत भी बहुत !!