www.poetrytadka.com

ye duniya raas aagi

रफ्ता रफ्ता उस को भी ये दुनिया रास आ गयी !
मुस्कुरा के वो मिला है रंजीशो के बाद भी !!