www.poetrytadka.com

yarab mujhe mahfooz rakh

यारब, मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से !
मैं उस की इनायत का तलबगार नहीं हूँ.!!