www.poetrytadka.com

wo sakhs jo kabhi hara nahi

वो शख्स जो कभी हारा ही नहीं किसी जंग में I
मोहब्बत में सर कटवाने को तैयार बैठा है II