www.poetrytadka.com

wo nahi mera mgar

वो नहीं मेरा मगर...उससे मोहब्बत है तो है !
ये अगर...रस्मों-रिवाज़ों से बगावत है तो है !!