www.poetrytadka.com

wo mere hatho ki lkiro ko dekh kar

वो मेरे हाथो की लकीरे देखकर अक्सर Mayush हो जाती थी !
शायद उसे भी एहसास हो गया था कि वो मेरी Kismat मे नही !!