www.poetrytadka.com

wo kagaj ka tukda

ओ कागज का टुकड़ा आज भी फूलो की तरह महकता हैं !
जिस पर कभी उसने लिखा था हमे तुमसे प्यार है !!