www.poetrytadka.com

Wo ishq ke kisse purane ho gae

Last Updated

वो इश्क के क़िस्से, पुराने हो गए !
उनसे बिछड़े हमें, ज़माने हो गए !
शमा तो जली इंत्ज़ार में रात भर !
परवाने के झूठे सब, बहाने हो गए !!

wo ishq ke kisse purane ho gae