waqt

acche vichar

वक़्त किसी का नहीं.

बाजार में उन नोटों को 

भी बिकते देखा

जो कभी खरीदने की 

ताकत रखते थे.

मुख्य पेज पर वापस जाएँ