www.poetrytadka.com

Utnahi be parwah hote hai

जिसकी जितनी परवाह की जाये वो !
उतना ही बे-परवाह हो जाता है !!