www.poetrytadka.com

uske jaisa koi gulab nahi

ख्वाबों में उनके सिवा कोई ख्वाब नहीं है !
महफिल में उनके जैसा लाजवाब नहीं है !
किताब और खिताब तो कहीं से ले लीजिए !
बागों में उनके जैसा कोई गुलाब नहीं है !!