www.poetrytadka.com

usi ka kaam tha

सजा पे छोड़ दिया , जज़ा पे छोड़ दिया !
हर एक काम को हमने खुद पे छोड़ दिया !
वो हमे याद रखे या फिर भुला दे !
उसी का काम था उसी की रज़ा पे छोड़ दिया !!