www.poetrytadka.com

Unki bewafai

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया,

अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो,

औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया

Unki bewafai