www.poetrytadka.com

umedo ko zgaya kyu tha

मेरी ख्वाबिन्दा उम्मीदों को जगाया क्यों था
दिल जलना था तो फिर तुमने दिल लगाया क्यों था
अगर गिरना था इस तरहा नजरोसे हमें
तो फिर मेरे इश्क को कलेजे से लगाया क्यों था!