www.poetrytadka.com

udas kar deti hai har roz

उदास कर देती है हर रोज...ये शाम मुझे !
लगता है जैसे कोई भूल रहा हो मुझे आहिस्ता आहिस्ता !!