www.poetrytadka.com

tute huae rishte

कुछ रूठे हुए लम्हें कुछ टूटे हुए रिश्ते !
हर कदम पर काँच बन कर जख्म देते है !!