www.poetrytadka.com

tumse ye ummid na thi

मेरी बरबादी के जश्न में तू भी शरीक होगी !
ऐ जिन्दगी....तुम से तो ये उम्मीद न थी !!