www.poetrytadka.com

tumhari kya khata

लडते रहते हैं दो मुल्कों की तरह तुम्हारे लिए !
तुम्हारी क्या खता है इसमें तुम हो ही कश्मीर सी सुंदर !!