www.poetrytadka.com

tujhe pane ki khuwahish

मुझे मेरे कल की फिकर आज भीनही है !
मगर तुझे पाने कि ख्वाईश तो जन्नत तक रहेगी !!