www.poetrytadka.com

Trees and birds

Trees and birds
अब तो परिंदे भी सुस्ता लेते है बिजली के तारों पर !
पेड़ की डालियाँ अब कहाँ बची हैं मेरे शहर में !!