www.poetrytadka.com

tmanna uthti ho dil me

कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में !
भारत मा का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में !
हर तूफान को मोड़ दे जो हिन्दोस्तान से टकराए !
चाहे तेरा सीना हो छलनी तिरंगा उंचा ही लहराए !
बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होली !
उस मा को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली !!