www.poetrytadka.com

tmam umar zindagi se door rhe

तमाम उम्र ज़िंदगी से दूर रहे !
तेरी ख़ुशी के लिए तुझसे दूर रहे !
अब इस से बढ़कर वफ़ा की सज़ा क्या होगी !
कि तेरे होकर भी तुझसे दूर रहे !!