www.poetrytadka.com

Thokar naa lga mujhe patthar nahi hoo

ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नही हु मै !

हैरत से ना देख कोई मंज़र नै हु मै !

उनकी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही !

मगर उनसे पूछो जिन्हें हासिल नही हु मै !!

Thokar naa lga mujhe patthar nahi hoo