www.poetrytadka.com

thokar insan ko chalna sikhati hai

मजिल इन्सान के हौसले आजमाती है !
सपनों के परदे आँखों से हटाती है !
किसी भी बात से हिम्मत मत हारना !
ठोकर ही इन्सान को चलना सिखाती हैं !!