www.poetrytadka.com

Teri mohabbat ka payam

मेरे दिल को, तेरी मोहब्बत का पयाम, आया है 

रंगीन बहारो में, मोहब्बत का, सलाम आया है

अबके कालियों ने बहुत याद, किया है तुझको

बल्कि मौसम ने भी, पैगाम दिया है तुझको

एक दीवाने की, जुबान पर, मेरा नाम आया है 

मेरे पहलु में मचलती हुए आँखे तेरी

जिनके फंदे मैं गिरफ्तार हैं, आँखें मेरी 

बात सुलझे न उलझकर, वो मकाम आया है