www.poetrytadka.com

teri ek mushkan

यूँ तो शिकायते तुझ से सैंकड़ों हैं मगर !
तेरी एक मुस्कान ही काफी है सुलह के लिये !!