www.poetrytadka.com

teri aagosh me

Last Updated

तेरी तलब ने निखारा है मेरे सावले पन को 

तेरी आगोश में ही मुकम्मल नज़र आता हूँ 

teri aagosh me