www.poetrytadka.com

tere wazood se naa khud ko mai zuda

तेरे वज़ूद से ना ख़ुद को मैं जुदा देखूं !
सिवा मैं तेरे भला किसका आसरा देखूं !
वो मुझसे कह के गया है कि अब न लौटेगा !
मगर ये कहता है दिल ,फिर भी रास्ता देखूं !!