www.poetrytadka.com

tere ishq ne mujhe itna bekrar

तेरे इंतजार ने हम को इतना बेखबर रखा !
कभी तकिया इधर रखा, कभी तकिया उधर रखा !!