www.poetrytadka.com

Tere intezar ka aalam

Last Updated

तेरे इंतज़ार का ये आलम है,

तड़प्ता है दिल आखें भी नम है,

तेरी आरज़ू में जी रहे है, 

वरना जीने की ख्वाहिश कम है.