tere ehsaas ki garmi

shayari sangrah tere ehsaas ki garmi

तेरे एहसासों की गरमी ने मुझे सोने न दिया

तेरी याद आयी तो अँशुआो को बहने न दिया

 

मुख्य पेज पर वापस जाए