www.poetrytadka.com

tere apne hi bhut hai roolane ke liae

मेरे दुश्मन भी ये कह कर छोड गये "साकी I
तेरे अपने ही बहुत है तुझे रुलाने के लिये II